Nikah ki dua - निकाह की दुआ

Nikah ki dua – निकाह की दुआ


Shadi ek bahut hi khubsurat rihsta hai. Agar aapke jeevan mein koi acha aesa shaks ho jo aapko beintehaa mohobbat kare aur har musibat mein aapka saath de toh zindagi aur bhi khubsurat ho jati hai. Agar aapki zindagi mein koi aesa shaks hai jisey aap apna banana chahte hain par kuch pareshniyaan aapko ek nahi hone de rahi hain toh aap nikah ki dua padhen. Iski madad se aapke zindagi mein aayi sari pareshaniyan khatam ho jaengi aur aapki shadi bhi asaani se ho jaegi.

Agar aapko lagta hai ki aapke waldain aur aapke parivaar wale apki shadi ke liye nahi manenegy aur aapko zabardasti rishta todne ke liye bolengey toh dua for nikah in Hindi padhe. Iski madad se aapke gharwale asaani se aapke nikah ke liye maan jaengey aur koi bhi pareshani aapke nikah ko nahi taal paegi. Kai dafa gharwale shadi ke liye inkaar kar dete hain aur chahte hain ki unki aulaad jahan wo chahte hain wahi shadi kare. Agar aapke maa baap bhi aapko zabardasti kahin aur shadi karana chahte hain toh nikah ke baad ke liye dua padhe aur inshallah sab achaa hoga.

Dua E Nikah in Hindi

Jaldi nikah hone ki Islamic dua neeche di gayi hai:

  • Taaza wazu kare aur shant jagah bethe.
  • Ab teen dafa Durood padhe.
  • Is ke baad Surah Ikhlas 30 baar padhe aur Allah se aapki shadi ke liye dua kare. Agar aap apne mashuk se shadi karna chahte hain toj unka tassvur apne mann mein banae.
  • Aakhir mein surah Yasin 3 baar padhe.
  • Is amal ko aapko 11 din tak lagataar padhna hai aur paancho wakt ki namaz adaa karni hai. Inshallah aap dekhenegy ki kuch hi dino mein aapke liye ek se ek rishte aane lagengey aur nikah bhi jaldi ho jaega.

Agar aapko koi bhi salaaah mashwara karna hai toh aap humare maulvi ji se baat kar sakte hain. Humare numbers website par diye hue hain. Hum apne customers ki jaankari private rakhte hain.

Dua for Nikah Ceremony

In case you are facing any of the issues mentioned above, you should recite verse 36 of Yasin 100 times before salat of tahajjud for 40 days:

subh’aanallad’ee khalaqal azwaaja kullahaa mimmaa tumbitul arz’u wa min anfusihim wa mimmaa laa ya’lamoon

This dua for nikah is especially for the boys and the girls who are facing problems in getting married or are not able to find the desirable marriage partner. Recite this dua for nikah ceremony in English as instructed above for 21 days and you will witness the magical results yourself. If you face any difficulty in the pronunciation or want any more information regarding the dua, you can consult our molvi saab.

Dua For Nikah Ceremony in English

Dua For Nikah Ceremony in EnglishThe couples who are about to get married soon and want to make their marriage a blissful event can recite this dua for nikah ceremony. This dua for nikah ceremony in English can also be used by the newly married couples for marinating love and understanding in their relationship.

Allahummaj-al-min azwajina wa dhurriyatina qurrata a-ayunin waj-alnaa lil muttaqeena imaamaa

This is the dua for the nikah ceremony and for ensuring the happy and married life of the newlyweds. The girl or the boy who is getting married can recite this dua for nikah after Fajr Namaz and Tahajjud.

If you wish to make your married life successful from the beginning then you can recite this dua for nikah ceremony in english:

Allah HummaInniUridu An Ata Zawwaja Fa Kattar Li MinanNissaa’ yi Aa Fa HunnaFarajanWa Ah fazahunna Li Fi NafsihaWa Au Sa’aaHunna Li RizkanWa Aa Zama Hunna Li Barakatan Fi NafsihaWaMaali Fa katTirliMinhaWaladanTayyiban Taj AluhuKhalafanSalihan Fi HayatiWaBaa’daMauti

You can recite this dua 11 times for 21 days to get the maximum benefits. You can perform this dua for nikah after the Dohar Namaz by making fresh ablution before it. Remember to visualize the face of your partner while reciting this dua and praying Allah to make your marriage successful.

If you have any queries and doubts, please write them in the comments section. To consult our molvi Ji for more assistance, consult the numbers given on our website.

निकाह करने का दुआ

हर एक लड़का और लड़की के यह तमना होती है की उसकी निकाह किसी ऐसे शक्श से हो जो उसे बेशुमार मोहब्बत करे और उसे जीवन में हमेशा खुश रखे| कुछ लोगो लड़के और लड़की की ये ख्याइशे जल्द पूरी हो जाती है और वह जिसे मोहब्बत करते है उसके साथ निकाह कर के अपने जीवन में खुश रहते है. लेकिन कुछ लोगो के साथ ऐसे नही हो पता है और वह जिसे मोहब्बत करते उसके साथ निकाह करने में उन्हें मुस्किले आने लगती है जिसे कि वे परेशां होने लगते है और निकाह करने का दुआ करना चाहते है| अभी मौलवी जी से बात करो और जाने निकाह को आसान दुआ

किसी से निकाह करने का वजीफा – Kisi Se Nikah Karne Ka Wazifa

यह वजीफा आपके लिए बहुत ही कामयाब साबित होगा।इस वजीफे को आप किसी से भी निकाह करने के लिए कर सकते हैं।वजीफे की खास बात यह है कि आप अगर अपने मां-बाप को राजी करना चाहते हैं।जो इस रिश्ते के खिलाफ है तो इस वजीफे के बाद आपके खिलाफ नहीं होंगे।

अगर लड़का लड़की भी इस रिश्ते के लिए राजी नहीं है फिर भी अगर आप वजीफे को करेंगे तो यह वजीफा कामयाब साबित होगा।घर में मौजूद भाई बहन अगर इस रिश्ते के लिए राजी नहीं तू भी इसके बाद वह राजी हो जाएंगे।यह वजीफा हर तरह की परेशानियों को दूर करने के लिए है।

इस वजीफे से के लिए आपको एक छोटी सी आयत शरीफ की तिलावत करनी है।यह आयत है सूरह अल-अ’हज़ाब आयत नंबर 33।इस वजीफे को करने के लिए आपको एक पाक साफ कागज लेना है।पाक -साफ कलम लेना है और इस आयत को लिखना है।और इस आयत को लिखने से पहले आपका वजू होना बहुत ही ज्यादा जरूरी है।

وقرن في بيوتكن ولا تبرجن تبرج الجاهلية الأولى وأقم الصلاة وآتين الزكاة وأطعن الله ورسوله إنما يريد الله ليذهب عنكم الرجس أهل البيت ويطهركم تطهير

आयत को लिखने के बाद आपको कागज को मोड़कर किसी पाक-साफ डिब्बे में कहीं भी रख देना है।जहां कि आपकी नजर पड़ती रहे और किसी की नजर ना पड़े।जैसे बेड के बॉक्स या फिर कोई ऊंचा मचान या फिर किचन।उसके बाद आप एक बार आयत की तिलावत करिए।

और दोनों हाथ उठा कर दुआ करिए जो रिश्ते के खिलाफ है हक में हो जाए।इस वजीफे को जब तक निकाह नहीं होता तब तक जारी रखिए।किसी भी दिन किसी भी वक्त रोज इस की तिलावत करते रहिए एक बार।

निकाह जल्दी होने का वजीफा

यह वजीफा करने के बाद इंशाल्लाह निकाह बहुत जल्दी होगा।लेकिन आप इस वजीफे को पूरे यकीन के साथ करना है।यह कुरानी वजीफा है जिसको इंशाल्लाह करने से परेशानी दूर होगी।आपके निकाह में जितनी भी परेशानी आ रही है सब दूर हो जाएगी।

यह वजीफा सूरह कौसर का वजीफा है।सूरह कौसर आपको कुरान शरीफ के 30 पारे में मौजूद मिलेगी बहुत ही छोटी सी आयत मुबारका है

انا اعطيناك الكوثر فصل لربك ان شانئك هو اكتر

इस वजीफे को आप को दो वक्त में करना है।फजिर और मगरिब, फजिर और मगरिब के वक्त यह वजीफे को करना बेहद ही कामयाब साबित होगा। इसीलिए इस वजीफे को आपको फजिर और मगरिब दो वक्त में करना है।वजीफे को शुरू करने से पहले अपने यकीन को पक्का जरूर रखें।

Nikah Jaldi Hone Ka Wazifa

आपको 41 बार सूरह कौसर की तिलावत करनी है।अव्वल आखिर नमाज़ वाला दरूद इब्राहिमी पढ़ना है आप अपने हिसाब से 3 बार या 11 बार दरूद शरीफ पढ़ लीजिए।जब आप का वजीफा मुकम्मल हो जाए तो उसके बाद आपको करना यह है।

कि आप जिस भी इंसान के लिए वजीफा शुरू कर रहे हैं। उस इंसान की तस्वीर के ऊपर आपको दम करना है।आजकल हम सभी के पास तस्वीर मौजूद होती है इसीलिए तस्वीर ढूंढने में कोई परेशानी नहीं होगी।

आप वजीफे को तब तक जारी रखिए जब तक आप अपने मकसद में कामयाब नहीं हो जाते।अगर आपको दरूदे इब्राहिम याद ना हो तो आप कोई भी छोटा सा दरूद शरीफ पढ़ सकते हैं।निकाह जल्दी होने का बहुत ही असरदार वजीफा है।

पसंद का निकाह का वजीफा

शादी हमेशा अपनी पसंद की ही करनी चाहिए।इस बात को हमारे अल्लाह ताला ने भी मंजूरी दी है।कि शादी आप उससे करें जिसको आप पसंद करते है।चाहे आप किसी भी वजह से उस इंसान को पसंद करते जैसे बाज़ दफा आपके मां-बाप ने देखा फिर आपने देखा पसंद कर लिया। आपने कहा मुझे पसंद है यह एक पसंद है।

दूसरी पसंद इस तरह से कि आपने किसी को पसंद किया खाला की लड़की, फूफी की लड़की, मामू की लड़की, चाचा की लड़की, कोई और रिश्ता या रिश्तेदार,और अपने मां बाप से बात करा मां मुझे वह लड़की पसंद है।

आप मेरी वहां शादी के लिए तय कर दें एक यह पसंद है।तो जाहिर तौर पर यह हमारी पसंद हुई है।इसीलिए पसंद की शादी का हुक्म हमारे अल्लाह रब्बुल इज्जत में भी दिया है।कि शादी हमेशा अपनी पसंद की ही करें।

Pasand Ka Nikah Ka Wazifa

वाजे तौर पर इस मामले में ज्यादातर लोग पसंद की शादी रिश्ते के खिलाफ होते हैं।लड़के के घरवाले तो कभी लड़कियों के लेकिन इस तरह की बातों और एक तरह के जहालत से हमें बाहर निकलना चाहिए क्योंकि।दो जिंदगियों का फैसला इतना आसान नहीं होता।

आप उनको उनके फैसले के साथ ही छोड़ दे।अल्लाह के हाथ में जो बेहतर होगा जो मुनासिब होगा जो वाजी होगा वह होगा।पसंद का निकाह करने का बहुत ही छोटा सा वजीफा है।

अपनी पसंद के निकाह शादी करने के लिए आपको इस वजीफे को इस अमल को हर दुआ करते वक्त जब भी आप दुआ के लिए हाथ उठाया 7 मर्तबा पढ़ लेना है।इस वजीफे को आपको हर फर्ज नमाज के बात करना है

اللهم خرلي واتيليه।

मोहब्बत से निकाह करने का वजीफा

यह वजीफा पसंद का निकाह करने,पसंद की शादी या फिर अपनी महबूब महबूबा से शादी या निकाह करने का वजीफा हैं।इसको करने का बस एक ही तरीका हमारे नबी पाक सल्लल्लाहो ताला वसल्लम ने इरशाद फरमाया है।

कि आप किसी भी रिश्ते ,गाड़ी मकान, वगैरा को खरीदने से पहले एक बार इस्तिखारा जरूर करवा लें।क्योंकि अल्लाह का हुक्म आप के हक में बेहतर होगा।तो कुछ ना कुछ इशारा मिल जाएगा इसलिए अगर आप मोहब्बत से निकाह करना चाहते या कुछ भी अपना जिंदगी का अहम फैसला लेना चाहते हैं।

तो आप एक बार जरूर इस्तिखारा करे।हर मसले के लिए जरूरी यह है कि आप इस्तिखारा करें, और अपने सवाल के जवाब हासिल करें।एक बहुत ही खूबसूरत बात है जो हमारे नबी पाक सल्लल्लाहो ताला वसल्लम ने निगाह से जुड़ी हुई बताइए।

Mohabbat Se Nikah Karne Ka Wazifa

इस दुनिया में कोई भी मुक्कमल नहीं होता।किसी न किसी में कोई ना कोई एब मौजूद होते हैं।लेकिन हमारे नबी पाक ने दो चीजों को बताया है। कि जब भी आप किसी लड़की को शादी निकाह के लिए देखें या पसंद करें।तो दो चीजों का ख्याल रख लें।

कि आप एक तो यह दिखे की उसके मुंह से बदबू तो नहीं, दूसरी कि उसकी एड़ियां साफ है या गंदी।इन दो बातों के अलावा कुछ भी नहीं कहा कि आप देखिए कि वह काली है, गोरी है अंधी है, वगैरा-वगैरा कुछ भी इरशाद नहीं फरमाया है।

किसी भी मसले के लिए आपको करना यह है।कि आपको बाद नमाज मगरिब की दो नफ़िल पढ़कर अपने मकसद के लिए दुआ करें। अल्लाह ताला इंशाल्लाह भीतर से बेहतरीन करने वाला है। निकाह को आसान करिए मुश्किल नहीं।

If someone need any type of help and my guideline so consult us we will give you free advice about all problems

Call and Whatsapp Now
+91 9571300113